Actions

बलदेव सूरि

From जैनकोष



आप भगवती आराधनाकार आचार्य शिवकोटि (शिवार्थ) के गुरु बताये जाते हैं । आप स्वयं चन्द्रनन्दि नामक आचार्य के शिष्य थे । तद्‌नुसार आपका समय -ई.श.१ पूर्वार्ध आता है । (भ.आ./प्र./१६/प्रेमी जी) ।

Previous Page Next Page