Actions

ब्रह्महृद्

From जैनकोष



लान्तव स्वर्ग का प्रथम पटल व इन्द्रक - देखें - स्वर्ग / ५ / ३

Previous Page Next Page