Actions

Difference between revisions of "अक्रूर"

From जैनकोष

(Imported from text file)
m
 
(One intermediate revision by the same user not shown)
Line 1: Line 1:
 
 <p id="1"> (1) राजा श्रेणिक का पुत्र । इसने वारिषेण और अभयकुमार आदि अपने भाइयों और माताओं के साथ समवसरण में वीर जिनेन्द्र की वन्दना की थी । <span class="GRef"> हरिवंशपुराण 2.139 </span></p>
 
 <p id="1"> (1) राजा श्रेणिक का पुत्र । इसने वारिषेण और अभयकुमार आदि अपने भाइयों और माताओं के साथ समवसरण में वीर जिनेन्द्र की वन्दना की थी । <span class="GRef"> हरिवंशपुराण 2.139 </span></p>
<p id="2">(2) यादववंशी राजा वसुदेव और उनकी रानी विजयसेना का पुत्र । इसका पिता इसके उत्पन्न होते ही अज्ञात रूप से घर से निकल गया था किन्तु पुन: वापिस आकर और इसे लेकर वह कुल्पर चला गया था । <span class="GRef"> हरिवंशपुराण 19.53-59, 32.33-34  </span>क्रूर इसका छोटा भाई था । कृष्ण और जरासन्ध के युद्ध में इसने कृष्ण का साथ दिया था । वसुदेव ने इसे बलराम और कृष्ण के रथ की रक्षा करने के लिए पृष्ठरक्षक बनाया था । <span class="GRef"> हरिवंशपुराण 48.53-54, 50. 83, 115.117 </span>देखें [[ वसुदेव ]]</p>
+
<p id="2">(2) यादववंशी राजा वसुदेव और उनकी रानी विजयसेना का पुत्र । इसका पिता इसके उत्पन्न होते ही अज्ञात रूप से घर से निकल गया था किन्तु पुन: वापिस आकर और इसे लेकर वह कुल्पर चला गया था । <span class="GRef"> हरिवंशपुराण 19.53-59, 32.33-34  </span>क्रूर इसका छोटा भाई था । कृष्ण और जरासन्ध के युद्ध में इसने कृष्ण का साथ दिया था । वसुदेव ने इसे बलराम और कृष्ण के रथ की रक्षा करने के लिए पृष्ठरक्षक बनाया था । <span class="GRef"> हरिवंशपुराण 48.53-54, 50. 83, 115.117 | </span>देखें [[ वसुदेव ]]</p>
 
   
 
   
  

Latest revision as of 17:57, 2 August 2020



(1) राजा श्रेणिक का पुत्र । इसने वारिषेण और अभयकुमार आदि अपने भाइयों और माताओं के साथ समवसरण में वीर जिनेन्द्र की वन्दना की थी । हरिवंशपुराण 2.139

(2) यादववंशी राजा वसुदेव और उनकी रानी विजयसेना का पुत्र । इसका पिता इसके उत्पन्न होते ही अज्ञात रूप से घर से निकल गया था किन्तु पुन: वापिस आकर और इसे लेकर वह कुल्पर चला गया था । हरिवंशपुराण 19.53-59, 32.33-34 क्रूर इसका छोटा भाई था । कृष्ण और जरासन्ध के युद्ध में इसने कृष्ण का साथ दिया था । वसुदेव ने इसे बलराम और कृष्ण के रथ की रक्षा करने के लिए पृष्ठरक्षक बनाया था । हरिवंशपुराण 48.53-54, 50. 83, 115.117 | देखें वसुदेव


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ