Actions

बलीन्द्र

From जैनकोष

== सिद्धांतकोष से == वर्तमानकालीन सातवें प्रतिनारायण थे । अपरनाम प्रहरण व प्रह्लाद था । (म.पु./66/109) विशेष परिचय - देखें शलाका पुरुष - 5.1


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) विजयार्ध पर्वत पर स्थित मन्दरपुर का स्वामी । यह विद्याधरों का राजा था । इसने बलभद्र नन्दिमित्र और नारायणदत्त से गन्धगज की प्राप्ति के लिए युद्ध किया था । इस युद्ध में इसका पुत्र शतबलि बलभद्र नन्दिमित्र द्वारा मारा गया था । अपने पुत्र की मृत्यु का प्रतिशोध लेने के लिए नारायणदत्त के मारने को इसने चक्र चलाया था किन्तु चक्र प्रदक्षिणा देकर नारायणदत्त की दायी भुजा पर जाकर ठहर गया । इसी चक्र से यह नारायण दत्त द्वारा मारा गया और मरकर नरक गया । महापुराण 66.109-125

(2) विजयार्ध पर्वत के किलकिल नगर का स्वामी विद्याधर । यह प्रियंगुसुन्दरी का पति तथा बाली और सुग्रीव का जनक था । महापुराण 68.271-273


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ