Actions

सूत्रपाहुड़ गाथा 25

From जैनकोष

जइ दंसणेण सुद्धा उत्त मग्गेण सावि संजुत्त ।
घोरं चरिय चरित्तं इत्थीसु ण २पव्वया भणिया ॥२५॥
यदि दर्शनेन शुद्धा उक्ता मार्गेण सापि संयुक्ता ।
घोरं चरित्वा चारित्रं स्त्रीषु न पापका भणिता ॥२५॥


आगे कहते हैं कि यदि स्त्री भी दर्शन से शुद्ध हो तो पापरहित है, भली है -
अर्थ - स्त्रियों में जो स्त्री दर्शन अर्थात्‌ जिनमत की श्रद्धा से शुद्ध है, वह भी मार्ग से संयुक्त कही गई है । जो घोर चारित्र तीव्र तपश्चरणादिक आचरण से पापरहित होती है, इसलिए उसे पापयुक्त नहीं कहते हैं ।
भावार्थ - - स्त्रियों में जो स्त्री सम्यक्त्व सहित हो और तपश्चरण करे तो पापरहित होकर स्वर्ग को प्राप्त हो इसलिए प्रशंसा करने योग्य है, परन्तु स्त्रीपर्याय से मोक्ष नहीं है ॥२५॥


Previous Page Next Page