Actions

उदय

From जैनकोष



(1) अग्रायणीयपूर्व की पंचम वस्तु के 20 प्राभृतों में कर्म प्रकृति नामक चौथे प्राभृत के चौबीस योगद्वारों में दसवां योगद्वार । हरिवंशपुराण 10.81-83 देखें अग्रायणीयपूर्व

(2) समवसरण के तीसरे कोट के पूर्व द्वार के आठ नामों में एक नाम । हरिवंशपुराण 57.56-57

(3) समवसरण के तीसरे कोट के उत्तर द्वार के आठ नामों में एक नाम । हरिवंशपुराण 57.60


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ