एकदशांंगधारी

From जैनकोष



ग्यारह अंगधारी पाँच आचार्य― नक्षत्र, यश:पाल, पांडु, ध्रुवसेन और कंस । हरिवंशपुराण 1.64


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ