एकलठाणा

From जैनकोष



(व्रतविधान संग्रह 26) - मात्र एक बार परोसा हुआ भोजन संतोष पूर्वक करना।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ