एकेंद्रिय भेद

From जैनकोष



एकेंद्रिय जीवोंके 42 भेद हैं-पृथ्वी, जल, तेज, वायु, नित्य निगोद, साधारण वनस्पति, इतर निगोद, सा. व.। इन छः के सूक्ष्म व बादरकी अपेक्षा 12 भेद हुए। प्रत्येक वनस्पति सप्रतिष्ठित और अप्रतिष्ठित भेदसे दो प्रकार। ऐसे 14 प्रकार हर एक पर्याप्त, निर्वृत्यपर्याप्त व लब्ध्य पर्याप्त इस तरह 42 भेद हुए।

(जै.सि.प्र. 54-57) - देखें बृ जै.शब्दा.द्वि. खंड।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ