ऐशानी

From जैनकोष



एक महाविद्या । यह विद्या रावण को प्राप्त थी । पद्मपुराण 7.330-332


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ