खंडप्रपात

From जैनकोष



(1) भरतक्षेत्रस्थ विजयार्ध पर्वत के नौ कूटों में तीसरा कूट । इसका विस्तार मूल मैं सवा छ: योजन, मध्य में कुछ कम पाँच योजन और ऊपर कुछ अधिक तीन योजन है । हरिवंशपुराण 5. 26, 29

(2) ऐरावत क्षेत्रस्थ विजयार्ध पर्वत के नौ कूटों में सातवाँ कूट । हरिवंशपुराण 5.111


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ