खेद

From जैनकोष

 नियमसार (ता.वृ./6/14/4) अनिष्टलाभ: खेद:।=अनिष्ट की प्राप्ति (अर्थात् कोई वस्तु अनिष्ट लगना) वह खेद है।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ