घृतस्रावो

From जैनकोष



एक रस ऋद्धि । इससे भोजन में घी की कमी नहीं रहती । महापुराण 2.72


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ