चंद्रकवेध

From जैनकोष



चंद्रक यंत्र । राजा द्रुपद ने अपनी कन्या द्रौपदी के इच्छुक राजकुमारों को इसी यंत्र के वेघनार्थ आमंत्रित किया था । अपरनाम राघावेघ । हरिवंशपुराण 45.124-127


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ