चंद्रकीर्ति

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

  1. नंदिसंघ के देशीयगण की गुर्वावली के अनुसार आप मल्लधारीदेव के शिष्य और दिवाकर नंदि के गुरु थे। समय–वि.1100-1130 (ई.1043-1073)–देखें इतिहास - 7.5
  2. वि.1654-1681 (ई.1597-1624) के एक भट्टारक थे जिन्होंने वृषभ देव पुराण, पद्मपुराण, पार्श्व पुराण और पार्श्व पूजा लिखे। (ती./3/441)


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) वज्रदंत चक्रवर्ती के पांचवें पूर्वभव का जीव । यह अर्धचक्री का पुत्र और जयकीर्ति का मित्र था । महापुराण 7.7-8

(2) चंपापुर का राजा । यह निःसंतान मरा था । महापुराण 70.84


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ