चंद्रशेखर

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

( पांडवपुराण/17/ श्लोक नं.) विशालाक्ष विद्याधर का पुत्र था।49। अर्जुन ने वनवास के समय इसको हराकर अपना सारथी बनाया था।37-38। तब इसकी सहायता से विजयार्ध पर राजा इंद्र की सहायता की थी।58।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) विद्याधर वंशज एक नृप । यह चंद्र का पुत्र और इंद्र का पिता था । पद्मपुराण 5.50

(2) राजा के सेवक विशालाक्ष विद्याधर का पुत्र । अर्जुन ने वनवास के समय इसे पराजित कर अपना सारथी बनाया था । इसके कहने से अर्जुन विजयार्ध पर गया और इंद्र के शत्रुओं का विनाश करके उसे शत्रु रहित किया । पांडवपुराण 17.50, 33-38, 55-56, 60-61


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ