चक्रनृत्य

From जैनकोष



फिरकी लगाकर नृत्य करना । भगवान् के जन्माभिषेक के समय इंद्र ने देवियों के साथ यह नृत्य किया था । महापुराण 14.136


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ