चक्षुष्मान्

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

  1. दक्षिण मानुषोत्तर पर्वत का रक्षक व्यंतर देव–देखें व्यंतर ।4।
  2. अपर पुष्करार्ध का रक्षक व्यंतर देव–देखें व्यंतर ।4।
  3. आठवें कुलकर–देखें शलाका पुरुष ।9।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) आठवें मनु/कुलकर । ये सातवें कुलकर विपुलवाहन के पुत्र थे तथा नौवें कुलकर यशस्वी के पिता । इनके पूर्व माता-पिता पुत्र का मुख तथा चक्षु देखे बिना ही मर जाते थे । इनके समय से वे पुत्र का मुख और चक्षु देखकर मरने लगे थे । इससे उत्पन्न प्रजा-भय को दूर करने से प्रजा ने इन्हें इस नाम से संबोधित किया था । ये बहुत काल तक भोग भोगकर स्वर्ग गये । महापुराण 3. 120-125, हरिवंशपुराण 7.157-160, पांडवपुराण 2. 106 पद्मपुराण में इन्हें सीमंधर के बाद हुए बताया है । इन्होंने सूर्य और चंद्र देखकर भयभीत प्रजा के भय का निवारण किया था । पद्मपुराण 2.79-85

(2) मानुषोतर पर्वत का रक्षक देव । महापुराण 5.639


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ