चतुरस्रानुणयोग

From जैनकोष



श्रुत के चार अनुयोग- (1) प्रथमानुयोग (2) करणानुयोग (3) चरणानुयोग और (4) द्रव्यानुयोग । हरिवंशपुराण 48.4


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ