चतुर्भुज

From जैनकोष

यह जयपुर निवासी थे। वैरागी के नाम से प्रसिद्ध थे। प्राय: लाहौर जाते थे, तब वहाँ कवि खरगसेन से मिला करते थे। समय–वि.1685 (ई.1628) में लाहौर गये थे। (हि.जैन.साहित्य इतिहास/पृ.155/कामता प्रसाद)।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ