चतुर्मासा

From जैनकोष



चार मास परिमित काल, वर्षाकाल । हरिवंशपुराण 18.99


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ