चतुर्विध बंध

From जैनकोष



चार प्रकार का कर्मबंध- प्रकृति, स्थिति, अनुभाग और प्रदेश । महापुराण 58.31


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ