चतुर्विशतिस्तव

From जैनकोष



अंगबाह्य श्रुत के चौदह प्रकीर्णकों में एक प्रकीर्णक । हरिवंशपुराण 2. 102 देखें अंगबाह्यश्रुत


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ