चमूपति

From जैनकोष



सेनापति । यह चक्रवर्ती का एक सजीव रत्न होता है । महापुराण 37.84


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ