चर्मरत्न

From जैनकोष



चक्रवर्ती के चौदह रत्नों में एक अजीव रत्न । इन रत्न को सहायता से भरतेश की सेना जल्द-विप्लव से पार हुई थी । महापुराण 37.83-84, 171


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ