चर्यापरीषह

From जैनकोष



पाद-त्राण की मन, वचन और काय से भी इच्छा न रखते हुए चलने मे होने वाले कष्ट को सहन करना । महापुराण 36.120


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ