छेद प्रायश्चित्त

From जैनकोष



  1. छेद प्रायश्चित्त का लक्षण
    सर्वार्थसिद्धि/9/22/440/9 दिवसपक्षमासादिना प्रवर्ज्याहापनं छेद:। =दिवस, पक्ष, महीना आदि की प्रव्रज्या का छेद करना छेदप्रायश्चित्त है। ( राजवार्तिक/9/22/8/621/30 ); ( भगवती आराधना / विजयोदया टीका/6/32/21 ), ( तत्त्वसार/7/26 ), ( चारित्रसार/143/1 )।
    धवला 13/5,4,26/61/8 दिवस-पक्ख–मास-उदु-अयण-संवरच्छरादिपरियायं छेत्तूण इच्छितपरियायादो हेट्ठिमभूमीए ठवणं छेदो णमा पायछित्तं। =एक दिन, एक पक्ष, एक मास, एक ऋतु,, एक अयन और एक वर्ष आदि तक की दीक्षा पर्याय का छेद कर इच्छित पर्याय से नीचे की भूमिका में स्थापित करना छेद नाम का प्रायश्चित्त है।
  2. छेद प्रायश्चित्त के अतिचार
    भगवती आराधना / विजयोदया टीका/487/707/24 एवं छेदस्यातिचार: न्यूनो जातोऽहमिति संक्लेश;। = ‘मैं न्यून हो गया हूँ’ ऐसा मन में संक्लेश करना छेद प्रायश्चित्त है।
  3. छेद प्रायश्चित्त किसको किस अपराध में दिया जाता है–देखें प्रायश्चित्त - 4

 


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ