Actions

बंध-स्थान

From जैनकोष



स.सा./आ.53-55 यानि प्रतिविशिष्टप्रकृतिपरिणाम-लक्षणानि बन्धस्थानानि ... । = भिन्न-भिन्न प्रकृतियों के परिणाम जिनका लक्षण है ऐसे जो बन्ध स्थान .... ।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ