Actions

बाहुबली

From जैनकोष

== सिद्धांतकोष से ==

  1. नागकुमार चरित के रचयिता एक कन्नड़ कवि । समय - ई. 1560 । (ती. /4/311)
  2. म.पु./सर्ग/श्लोक नं. अपने पूर्व भव नं. 7 में पूर्व विदेह वत्सकावती देश के राजा प्रीतिवर्धन के मन्त्री थे  (8/211) फिर छठे भव में उत्तरकुरु में भोग भूमिज हुए  (8/212), पाँचवें भव में कनकाभदेव (8/213) चौथे भव में वज्रजंघ (आदिनाथ भगवान् का पूर्व भव) के ‘आनन्द’ नाम पुरोहित हुए (8/217) तीसरे भव में अधोग्रैवेयक में अहमिन्द्र  हुए (9/90) दूसरे भव में वज्रसेन के पुत्र महाबाहु हुए (11/12) पूर्व भव में अहमिन्द्र हुए (47/365-366) वर्तमान भव में ऋषभ भगवान् के पुत्र बाहुबली हुए (16/6) बड़ा होने पर पोदनपुर का राज्य प्राप्तकिया (17/77) । स्वाभिमानी होने पर भरत को नमस्कार न कर उनको जल, मल्ल व दृष्टि युद्ध में हरा दिया । (36/60) भरत ने क्रुद्ध होकर इन पर चक्र चला दिया, परन्तु उसका इन पर कुछ प्रभाव न हुआ (36/66) इससे विरक्त हो इन्होंने दीक्षा ले ली  (36/104) । एक वर्ष का प्रतिमा योग धारण किया (36/106) एक वर्ष पश्चात् भरत ने आकर भक्तिपूर्वक इनकी पूजा की तभी इनको केवललब्धिकी प्राप्ति हो गयी  (36/185) । अन्त में मुक्ति प्राप्त की ।
  3. बाहुबली जी के एक भी शल्य न थी - देखें शल्य - 4 । बाहुबली जी की प्रतिमा सम्बन्धी दृष्टिभेद - देखें पूजा - 3.10


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

भगवान् वृषभदेव और उनकी सुनन्दा नामा द्वितीय रानी के पुत्र तथा सुन्दरी के भाई । सुन्दरता से कारण ये कामदेव कहलाते थे । चरमशरीरी थे और पोदनपुर राज्य के नरेश थे । महाबली और चन्द्रवंश का संस्थापक सोमयश इसका पुत्र था । महापुराण 16.4-25, 17.77, 34.68, पद्मपुराण 5.10 —11, हरिवंशपुराण 9.22 स्वाभिमानी होने के कारण इन्होंने भरत की अधीनता स्वीकार न कर उन्हें जल, दृष्टि और बाहु युद्ध में पराजित किया था भरत ने कुपित होकर इन पर चक्र चलाया था, परन्तु चक्र निष्प्रभावी हुआ था । राज्य के कारण अपने भाई के इस व्यवहार को देखकर इन्हें राज्य से विरक्ति हुई । अपने पुत्र महाबली को राज्य सौंपकर ये दीक्षित हो गये । इन्होंने प्रतिमायोग धारण करके एक वर्ष तक निराहार रहकर उग्र तप किया । सर्पों ने चरणों में वामियाँ बना ली, केश बढ़कर कंधों पर लटकने लगे और लताएँ इनके शरीर से लिपट गयी । तपश्चर्या के समाप्त होने पर भरत ने इनकी पूजा की और तभी इन्हें केवलज्ञान हो गया । इन्द्र आदि देव आये और इनकी उन्होंने पूजा की । अन्त में विहार कर ये तीर्थंकर आदिनाथ के निकट कैलास पर्वत पर गये । वहाँ शेष कर्मों का क्षय करके इन्होंने सिद्ध पद प्राप्त किया । अवसर्पिणी काल के ये प्रथम मुक्ति प्राप्त-कर्ता हैं । महापुराण 36.51-203, पद्मपुराण 4.77, हरिवंशपुराण 11.98-102 इनकी भवावलि इस प्रकार है—पूर्व में ये सेनापति थे, पश्चात् क्रमश: भोग-भूमि में आर्य, प्रभंकरदेव, अकम्पन, अहमिन्द्र, महाबाहु, पुन: अहमिन्द्र और तत्पश्चात् बाहुबली हुए थे । महापुराण 47.365-366


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ