Actions

बीजसम्यक्त्व

From जैनकोष

== सिद्धांतकोष से == देखें सम्यक्त्व i/1 ।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

सम्यग्दर्शन के दस भेदों में पाँचवाँ भेद, अपरनाम बीजसम्यक्त्व । इससे बीजपदों को ग्रहण करने और उनके सूक्ष्म अर्थ को सुनने से भव्यजीवों की तत्त्वार्थ में रुचि उत्पन्न होती है । महापुराण 74. 439-440, 444, वीरवर्द्धमान चरित्र 19.147


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ