Actions

बुद्धि

From जैनकोष

== सिद्धांतकोष से ==

षट्खंडागम 13/5,5/ सू.40/243 आवायो ववसायो बुद्धी विण्णाणी आउंडी पच्चाउंडी ।39। ... ऊहितोऽर्थो बुद्ध्यते अवगम्यते अनया इति बुद्धिः । = अवाय, व्यवसाय, बुद्धि, विज्ञप्ति, आमुंडा और प्रत्यामुंडा ये पर्याय नाम हैं ।39। ... जिसके द्वारा ऊहित अर्थ ‘बुद्ध्यते’अर्थात् जाना जाता है, वहबुद्धि है ।
योगसार (अमितगति)/8/82 बुद्धिमक्षाश्रयां ... । = जो इंद्रियों के अवलंबन से हो वह बुद्धि है ।
स.म./8/88/30 बुद्धिशब्देन ज्ञानमुच्यते । = बुद्धिका अर्थ ज्ञान है ।
न्यायदर्शन सूत्र/ मू./1/1/15/20 बुद्धिरुपलब्धिर्ज्ञानमित्यनर्थांतरम् । = बुद्धि, उपलब्धि और ज्ञान इनका एक ही अर्थ है । केवल नाम का भेद है ।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) एक दिक्कुमारी देवी । यह तीर्थंकर की माता के बोध गुण का विकास करती है । इंद्र जिन-माता के गर्भ का संशोधन करने इसे ही भेजता है । इसके रहने के लिए सरोवरों में कमलों पर भवन बनाये जाते हैं । महापुंडरीक नामक सरोवर इसका मूल निवास स्थान है । यह व्यंतरेंद्र की प्रियांगना व्यंतरी देवी है । महापुराण 12.163-164, 63. 200, हरिवंशपुराण 5.130, वीरवर्द्धमान चरित्र 7.105-108

(2) विवेचिका शक्ति । यह स्वभावज और विनयज के भेद से दो प्रकार की होती है । महापुराण 68.59


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ