एकत्व

From जैनकोष



आप्त मी. 34 सत्सामान्यात्तु सर्वैक्यं पृथग्द्रव्यादिभेदतः। भेदाभेदव्यवस्थायामसाधारणहेतुवत् ।34।

= भेदाभेदकी विवक्षामें असाधारण हेतुके तुल्य सत्सामान्यसे सबकी एकता है और पृथक् पृथक् द्रव्य आदिकके भेद से भेद भी है।

समयसार / आत्मख्याति परिशिष्ट शक्ति नं. 31 अनेकपर्यायव्यापकैकद्रव्यमयत्वरूपा एकत्वशक्तिः।

अनेक पर्यायोंमें व्यापक ऐसी एक द्रव्यमयतारूप एकत्व शक्ति है।

प्रवचनसार / तत्त्वप्रदीपिका / गाथा 106 तद्भावो ह्येकत्वस्य लक्षणम्।

= तद्भाव एकत्वका लक्षण है।

आलापपद्धति अधिकार 6 स्वभावानामेकधारत्वादेकस्वभावः।

= अनेक स्वभावोंका एक आधार होनेपर `एक स्वभाव' है।

वैशेषिक दर्शन / अध्याय 7/2/1 रूपरसगंधस्पर्शव्यतिरेकादर्थांतरमेकत्वम्।

= रूप, रस, गंध, स्पर्शके व्यतिरेकसे अर्थांतरभूत एकत्व है।

• परके साथ एकत्व कहनेका अभिप्राय-देखें कारक - 2

• परमएकत्वके अपर नाम-देखें मोक्षमार्ग - 2.5



पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ