चंद्रगुप्त १

From जैनकोष

मालवा के राजा थे जिन्होंने मंत्री शाकटाल तथा चाणक्य की सहायता से वी.नि.215 में नंदवंश का नाश करके मौर्यवंश की स्थापना की थी। (भद्रबाहु चारित्र/3/8)। (देखें इतिहास - 3.4)। ई.पू. 305 (वि.नि.222) में पंजाब प्रांत में स्थित सिकंदर के सूबेदार सिलोकस को परास्त करके उसकी कन्या से विवाह किया था। तिलोयपण्णत्ति/4/1481 के अनुसार ये अंतिम मुकुटधारी राजा थे जिन्होंने जिनदीक्षा धारण की थी। हरिषेण कृत कथा कोष में कथा नं.131 के अनुसार आप पंचम श्रुतकेवली भद्रबाहु प्र.के शिष्य विशाखाचार्य थे। (कोश 1 परिशिष्ट/2/3) तिल्लोय पण्णति में तथा नंदि संघ की पट्टावली में कथित श्रुतधरों की परंपरा से इस मत की पुष्टि होती है। (देखें इतिहास - 4.4)। श्रवण बेलगोल से प्राप्त शिलालेख नं.64 में भी इन्हें भद्रबाहु प्र.का शिष्य बताया गया है (ष.ख.2/प्र.4/H.L.jain)। संभवत: जैन होने के कारण इनको हिंदू पुराणों ने मुरा नामक दासी का पुत्र कह दिया है, और मुद्रा राक्षस नाटक में चाणक्य के मुख से इन्हें वृषल कहलाया गया है। परंतु वास्तव में ये ब्राह्मण थे। (जै./पी./352)। इनसे पूर्ववर्ती नंद वंश के राजाओं को भी शुद्रा का अथवा नाई का पुत्र कहा गया है। देखें आगे नंदवंश । समय–जैनागम के अनुसार वी.नि.215-255 (ई.पू.312-272); जैन इतिहास के अनुसार ई.पू.326-302, भारतीय इतिहास के अनुसार ई.पू.322-298। (देखें इतिहास - 3.4)।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ