चंद्राभा

From जैनकोष



(1) वटपुर नगर के राजा वीरसेन की भार्या । राजा मधु ने वीरसेन को धोखा देकर इसे अपनी स्त्री बनाया तथा उसे पटरानी का पद देकर मनचाहे भोग-भोगने लगा था अपने पूर्व पति को अपने वियोग में दु:खी देखकर वह द्रवित हो गयी । इसने मधु को भी उसकी दीन-दशा दिखाई । इधर राज-पुरुषों ने मधु से पूछा कि परस्त्री सेवी पुरुष को कौन-सा दंड दिया जावे । इसने उत्तर दिया कि उसके हाथ-पैर सिर काट दिये जाये । राजपुरुषों ने मधु से कहा कि परस्त्री हरण का अपराध तो उन्होंने भी किया है । इससे मधु बहुत लज्जित हुआ तथा विरक्त होकर विमलवाहन मुनिराज से उसने दीक्षा ले ली । इसने भी आर्यिका के व्रत स्वीकार कर लिये । पद्मपुराण 109. 136-162, हरिवंशपुराण 43. 163-203

(2) सुग्रीव की तेरह पुत्रियों में प्रथम पुत्री । यह राम के गुणश्रवण कर स्वयंवरण की इच्छा से हर्षपूर्वक उनके पास आयी थी । पद्मपुराण 47.136-137


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ