चंद्रोदय

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

आ.प्रभाचंद्र नं.3 (ई.797) का न्याय विषयक ग्रंथ।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) एक चूर्ण । इसे वैष्णवदत्त की पुत्री सुरमंजरी ने बनाया था । यह चूर्ण वातावरण को तत्काल सुगंधि से व्याप्त कर देता था । महापुराण 75.350-357

(3) एक पर्वत । इसी पर्वत पर कुमार जीवंधर ने वनक्रीडा की थी । यहीं एक मरणासन्न कुत्ते को नमस्कार मंत्र सुनाकर जीवंधर ने उसे यक्ष-गति प्राप्त करायी थी । महापुराण 75.359-365

(3) विनीता नगरी के राजा सुप्रभ और प्रह्लादना का पुत्र । यह सूर्योदय का सहोदर था । यह वृषभदेव के साथ दीक्षित हुआ था किंतु मुनिपद से भ्रष्ट होकर यह मरीचि का शिष्य हो गया । मरकर यह नाग नगर में राजा हरिपति की रानी मनोलूता से कुलकर नामक पुत्र हुआ । पद्मपुराण 85.45-51


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ