चकार

From जैनकोष



राजा रवि के पश्चात् हुआ लंका का स्वामी । यह माया, पराक्रम और शौर्य से संपन्न राक्षसवंशी विद्याधर था । पद्मपुराण 5. 395-400


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ