चक्रवर्ती

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

बारह चक्रवर्तियों का परिचय–देखें शलाकापुरुष


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

चक्ररत्न का स्वामी । यह षट्खंडाधिपति, दिग्विजयी, बत्तीस हजार राजाओं का अधिराज, शंख, अंकुश आदि चक्री के लक्षणों से चिह्नित, चौदह महारत्नों का स्वामी, नवनिधिधारी, सुकृती और दस प्रकार के भोगों से संपन्न होता है । यह भरत, ऐरावत और विदेह इन तीन क्षेत्रों में होता है । महापुराण 2.117,6. 194-204, 23.60, हरिवंशपुराण 1. 19 वर्तमान काल के बारह चक्रवर्ती ये हैं― भरत, सगर, मघवा, सनत्कुमार, शांतिनाथ, कुंथुनाथ, अरनाथ, सुभूम, महापद्म, हरिषेण, जय और ब्रह्मदत्त । पद्मपुराण 5.222-224, हरिवंशपुराण 60,286-287,298 भविष्य मे जो बारह चक्रवर्ती होंगे उनके नाम इस प्रकार हैं― भरत, दीर्घदंत, जंमदंत (मुक्तदंत) गूढ़दत्त (गूढ़दंत) श्रीषेण, श्रीभूति, श्रीकांत, पद्म, महापद्म, चित्रवाहन (विचित्रवाहन) विमलवाहन और अरिष्टसेन । महापुराण 76.4852-484, हरिवंशपुराण 60.563-565 एक समय में यह एक ही होता है । एक चक्रवर्ती दूसरे चक्रवती को, एक नारायण दूसरे नारायण को, एक बलभद्र दूसरे बलभद्र को और एक तीर्थंकर दूसरे तीर्थंकर को देख नहीं पाते । पांडवपुराण 22.10-11


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ