चक्षु:श्रवा

From जैनकोष



सर्प । यह जीव के मार्ग से ही सुनता है । महापुराण 26.176


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ