चतुर्दशीव्रत

From जैनकोष

14 वर्ष पर्यंत प्रतिमास की दोनों चतुर्दशियों को 16 पहर का उपवास करे। लौंद के मासों सहित कुल 344 उपवास होते हैं। ‘ॐ ह्रीं अनंतनाथाय नम:’ इस मंत्र का त्रिकाल जाप्य। (चतुर्दशी व्रत कथा); (व्रत विधान संग्रह/पृ.124)।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ