चतुष्टयी वृत्ति

From जैनकोष



अर्थ की चार वृत्तियाँ- अर्जन, रक्षण, वर्धन और व्यय । महापुराण 51. 7


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ