चमरी

From जैनकोष



एक विशिष्ट गाय । यह वन में ही पायी जाती है । इसकी पूँछ के बाल सुंदर और कोमल होते हैं । महापुराण 18.83, 28.42


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ