चरमोत्तमदेह

From जैनकोष



चरमशरीरी । इनकी अपमृत्यु नहीं होती । हरिवंशपुराण 33. 94


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ