छत्र

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

  1. चक्रवर्ती के चौदह रत्नों में से एक–देखें शलाका पुरुष - 2
  2. भगवान् के आठ प्रातिहार्यों में से एक–देखें अर्हंत - 8


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

(1) अर्हंत के अष्ट प्रातिहार्यों में एक प्रातिहार्य । भगवान् की मूर्ति पर तीन छत्र लगाये जाते हैं । वे उनके तीनों लोकों के स्वामित्व को सूचित करते हैं । ये उनकी रत्नत्रय की प्राप्ति के भी सूचक है । महापुराण 23. 42-47, 24.46,50, पद्मपुराण 4.29, वीरवर्द्धमान चरित्र 15.6-7

(2) चक्रवर्ती कै चौदह रत्नों में एक अजीव रत्न । यह वर्षा आदि बाधाओं का निवारक होता है । महापुराण 32.31, 37-83-85, हरिवंशपुराण 11.35

(3) पारिव्राज्य संबंधी एक सूत्रपद । ऐसे उपकरणों का त्यागी मुनि अगले भव में रत्नों से दैदीप्यमान तीन सत्रों से शोभित होता है । महापुराण 39.181


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ