छत्रपति

From जैनकोष



आप एक कवि थे। कोका (मथुरा) के पद्मावतीपुरवार थे। कृतियाँ–

  1. द्वादशानुप्रेक्षा,
  2. उद्यमप्रकाश,
  3. शिक्षाप्रधान पद्य;
  4. मनमोदन पंचशती। समय–मनमोदन पंचशती की प्रशस्ती के अनुसार वि.1916 पौष शु.1 है। (मन मोदन पंचशती/प्र.सोनपाल/प्रेमीजी के आधार पर)।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ