चंद्रप्रज्ञप्ति

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

  1. अंग श्रुतज्ञान का एक भेद–देखें श्रुतज्ञान - III.1.4,2।
  2. सूर्य प्रज्ञप्ति की नकल मात्र एक श्वेतांबर ग्रंथ। (जै./2/56,60)
  3. आ.अमितगति (ई.993-1016) द्वारा रचित संस्कृत ग्रंथ।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

दृष्टिवाद अग के पाँच भेदों मे से परिकर्म श्रुत का प्रथम भेद । इसमें छत्तीस लाख पाँच हजार पदों के द्वारा चंद्रमा की भोगसंपदा का वर्णन है । हरिवंशपुराण 10.61-63


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ