चंद्रप्रभ

From जैनकोष



सिद्धांतकोष से

आप जयसिंह सूरि के शिष्य थे। आपने प्रमेयरत्नकोष तथा दर्शनशुद्धि नामक न्याय विषयक ये दो ग्रंथ लिखे हैं। समय ई.1102–(न्यायावतार/प.4/सतीशचंद्र विद्याभूषण)।


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ


पुराणकोष से

मथुरा नगरी का राजा । इसकी दो रानियाँ थी― धरा और कनकप्रभा । धरा से इसके आठ पुत्र हुए थे― श्रीमुख, सम्मुख, सुमुख, इंद्रमुख, प्रभामुख, उग्रमुख, अर्कमुख और अपरमुख । दूसरी रानी कनकप्रभा से अचल नाम का एक पुत्र हुआ था । महापुराण 91.19-21


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ