चंद्रमाल

From जैनकोष



पुष्करार्ध के पश्चिम विदेह का एक वक्षारगिरि । महापुराण 63.204, हरिवंशपुराण 5. 232


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ