चतुर्णिकाय

From जैनकोष



भवनवासी, व्यंतर, ज्योतिष्क और वैमानिक इन चार निकायों के देव । हरिवंशपुराण 2.28


पूर्व पृष्ठ

अगला पृष्ठ