वे परमादी! तैं आतमराम न जान्यो

From जैनकोष

वे परमादी! तैं आतमराम न जान्यो
जाको वेद पुरान बखानै, जानैं हैं स्यादवादी।।वे. ।।१ ।।
इंद फनिंद करैं जिस पूजा, सो तुझमें अविषादी ।।वे. ।।२ ।।
`द्यानत' साधु सकल जिंह ध्यावैं, पावैं समता-स्वादी ।।वे. ।।३ ।।