संसारमें साता नाहीं वे

From जैनकोष

संसारमें साता नाहीं वे
छिनमें जीना छिनमें मरना, धन हरना छिनमाहीं वे।।संसार. ।।१ ।।
छिनमें भोगी छिनमें रोगी, छिनमें छय-दुख पाहीं वे।।संसार.।।२ ।।
`द्यानत' लखके मुनि होवैं जे, ते पावैं सुख ठाहीं वे ।।संसार.।।३ ।।